Category: उत्तरप्रदेश

Posted in उत्तरप्रदेश

भाजयुमो सीएए के समर्थन में 17 जनवरी को बनाएगा मानव श्रृंखला

फतेहपुर । राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाह्न पर भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा सीएए के समर्थन में 17 जनवरी को विशाल श्रंखला बनाई जाएगी। यह जानकारी भारतीय जनता युवा प्रदेश मंत्री विकास श्रीवास्तव ने जिलाध्यक्ष मधुराज विश्वकर्मा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में दी।   उन्होंने बताया कि 17 जनवरी को सीएए के समर्थन में मानव श्रृंखला बनाई जाएगी। एक किलोमीटर की इस श्रृंखला में स्कूल, कॉलेज, एनजीओ समेत अन्य जिले की जनता भी भाग लेगी। कार्यक्रम का आयोजन शहर के आईटीआई मैदान से पटेल नगर तक प्रातः 11 बजे किया जाएगा। उन्होंने बताया कि श्रृंखला के माध्यम से लोगों तक सीएए के संदर्भ में फैलाई जा रही अफवाहों पर विराम लगाकर जागरूक करने का काम किया जाएगा।   जिलाध्यक्ष मधुराज विश्वकर्मा ने बताया कि जनपद से हजारों की संख्या में जनपद के कोने-कोने से बूथ स्तर तक के कार्यकर्ता शामिल होने आयेंगे। बैठक में जिला उपाध्यक्ष प्रसून तिवारी, कोमल सिंह, विमलेश पांडे, गौरव अग्रहरी, जिला महामंत्री सावन गुप्ता, उत्कर्ष श्रीवास्तव, जिला मंत्री आशीष तिवारी, रोहित शर्मा, नीरज निषाद, उदय प्रताप सिंह, राजवर्धन सिंह, शानू सिंह, अनुभव शुक्ला, राहुल अग्रहरी, सौरव बाजपेई, यश गुप्ता, किशन शुक्ला, सत्यम, वरुण तिवारी, शक्ति सिंह समेत अन्य मंडल अध्यक्ष एवं महामंत्री मौजूद रहे।
Posted in उत्तरप्रदेश

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सीपीए के सातवें क्षेत्रीय सम्मेलन का किया उद्घाटन

लखनऊ, 16 जनवरी । उत्तर प्रदेश में पहली बार होने वाली राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (सीपीए) कांफ्रेंस गुरुवार को झमाझम बारिश के बीच शुरू हुई। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने विधान सभा के मुख्य कक्ष में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ के सातवें क्षेत्रीय सम्मेलन का उद्घाटन किया। इसके पूर्व श्री बिरला को गॉड ऑफ आनर दिया गया। उद्घाटन सत्र से पूर्व श्री बिरला ने विधानसभा की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर आधारित प्रदर्शिनी का उद्घाटन किया। विधानसभा के इतिहास और परम्पराओं को दर्शाती यह प्रदर्शिनी लोकतंत्र का महत्व बताने के साथ प्रदेश का गौरव भी बढ़ाती है।सीपीए प्राचीन भारत में सभाओं-समितियों के अनुरूप-हृदय नारायण दीक्षितउत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षितने स्वागत भाषण देते हुये कहा कि संसदीय प्रणाली में नियमावली में परिवर्तन सहित संसदीय घटनाओं को रोकने पर विचार-विमर्श हो और सुझाव आने चाहिए। राष्ट्रमंडल संसदीय संघ प्राचीन भारत में सभाओं-समितियों के अनुरूप प्रतीत होता है। इस मौके पर अति​थियों ने राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की स्मारिका का विमोचन किया। संसदीय भाषा का स्तर नहीं गिरना चाहिए-लाल जी टंडनमध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा कि सदन में भाषा की मर्यादाका पालन करना चाहिए। पीठासीन अधिकारी का दायित्व है कि वह सरकार का बचाव करे। सदन में और लोकतंत्र का भावना मजबूत रहे इसके लिए विपक्ष का भी सम्मान बनाए रखे।सम्मेलन से निकलेगा चुनौतियों का समाधान-योगी आदित्यनाथमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीपीए प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि लोकतंत्र आमजन की खुशहाली के लिए है। अनेकता में एकता भारत के लोकतंत्र का मूलमंत्र है। एकता-विविधता को देश के लोकतंत्र ने सहजता से अपना लिया है। तमाम चुनौतियां हैं जिनका समाधान ऐसे सम्मेलन से निकलेगा।उन्होंने कहा कि सीपीए ने लोकतंत्र को सुसाध्य बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। भारतीलोकतंत्र की भावना राष्ट्रमंडल की भावना के अनुरूप है। भारत राष्ट्रमंडल की सराहना करता है। हमारे संविधान निर्माताओं ने लोकतंत्र की जिम्मेदारी बचाये रखने की जिम्मेदारी सौंपी है, इसलिए हमें अपनी भूमिका निभानी होगी। एकता और अखंडता की हम आज भी रक्षा कर रहे हैं। कहा कि भारत वसुधैव कुटुम्बकम की बात करता है। हमारा देश सीपीए को एक परिवार मानता है।उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन से ठोस निष्कर्ष निकलेंगे, जिनसे लोकतंत्र और मजबूत होगा। सरकार तभी काम कर सकती है जब सदन बाधित न हो इससे जनता की भावनाएं भी आहत होती हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यमाथ ने कहा कि सरकार अपनी नीतियों से समाज के अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ देना चाहती है। कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ पर निरन्तर 36 घण्टे तक विधानमण्डल को दोनों सदनों में ‘सतत विकास’ को लेकर चर्चा हुई। वह गौरवा​न्वित करने वाला क्षण था। आमजन की खुशहाली ही हमारा प्रयास है। सदन के 36 घंटे चलने से हमें अन्य योजनाओं को पूरा करने का लाभ मिला। उन्होंने कहा कि कमजोर देशों के लिए सीपीए के सभी सदस्यों को आगे आना होगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इसके लिए विधान सभा से जुड़े सभी लोगों का आभार और धन्यवाद व्यक्त करता हूं।उत्तर प्रदेश विधान सभा के नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी ने कहा कि इस सम्मेलन से संसदीय लोकतंत्र की मजबूती की दिशा में कारगर सुझाव आएं। संसदीय लोकतंत्र की मजबूती में यूपी अगुवाई करे। देश में जब-जब संकट आया तब-तब यूपी ने अगुवाई की है।   उल्लेखनीय है कि राष्ट्रमंडल संसदीय संघ भारत क्षेत्र का सम्मेलन पहली बार उत्तर प्रदेश में हो रहा है। इससे पूर्व छठवां सम्मेलन बिहार के पटना में आयोजित किया गया था।इस मौके पर उत्तर प्रदेश के दोनों उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा, प्रदेश के संसदीय मंत्री सुरेश खन्ना समेत कई मंत्री व अधिकारी उपस्थित रहे। उद्घाटन सत्र में कई संसद सदस्य, उत्तर प्रदेश विधानमंडल के वर्तमान और पूर्व सदस्य तथा अन्य विशिष्ट लोग भी समारोह में शामिल रहे।
17 जनवरी को राज्यपाल करेंगी समापन उल्लेखनीय है कि दो दिन चलने वाली कांफ्रेंस का 17 जनवरी को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल समापन करेंगी। कांफ्रेंस में जनप्रतिनिधियों की कार्यकुशलता वृद्धि और सदन की बैठकों का स्तर बेहतर बनाने पर चर्चा होगी। इसमें भाग लेने के लिए आस्ट्रेलिया और मलेशिया के पर्यवेक्षकों के अलावा विभिन्न प्रदेशों के सौ से अधिक प्रतिनिधि लखनऊ पहुंचे हैं।

 

Posted in उत्तरप्रदेश

मालगाड़ी की डिब्बे पटरी से उतरे, 12 घण्टें बाद भी यातायात बाधित 

 लखनऊ बस्ती, 16 जनवरी। लखनऊ से बस्ती आ रही सीमेंट लदी मालगाड़ी के चार डिब्बे बुधवार की रात पटरी से उतर गया। घटना के 12 घण्टे बीत जाने के बाद भी यातायात बाधित है। बस्ती रेलवे स्टेशन के करीब 500 मीटर पहले पांडे बाजार रेलवे क्रासिंग पारकर मालगाड़ी आगे ही बढ़ी तभी सबसे पीछे के चार डिब्बे एक-एक कर पटरी से उतर गई। धमाके जैसी आवाज सुनकर सैकड़ों लोग मौके पर पहुंच गए। कुछ ही देर में आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव की टीम के साथ कंट्रोल समेत अन्य अधिकारियों को जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि मालगाड़ी को बस्ती में ही माल उतारन था। लखनऊ से बस्ती होते हुए गोरखपुर की तरफ जाने वाली मुंबई छपरा ग्वालियर बरौनी लखनऊ छपरा समेत कई गाड़ियों का संचालन प्रभावित है।   रेलवे अधिकारियों ने मौके पर लोगों को बताया कि वापस पटरी पर लाने में लगभग 6 से 7 घंटे लगेंगे। गोरखपुर मुख्यालय 7 और महाबली क्रेन को बुलाया गया है। देर रात से ही देर रात से बचाव कार्य चल रहा है। दुर्घटना के 12 घंटे बीत जाने के बाद भी यातायात सुचारू रूप से संचालित नहीं हो सका है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो अभी 4 से 6 घंटे और लग सकते हैं।

Posted in उत्तरप्रदेश

सीमा पर 10 किलोग्राम गांजा और 66 मवेशी बरामद

कोलकाता, 16 जनवरी । सीमा सुरक्षा बल जवानों ने पश्चिम बंगाल से सटी भारत-बांग्लादेश सीमा पर बुधवार/गुरुवार की दरमियानी रात  66 मवेशियों की बरामदगी करने के अलावा 10 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया है। मवेशियों की कीमत 936161 रुपये बताई गई है। बल का कहना है कि पहली कार्रवाई बॉर्डर आउटपोस्ट नूरपुर में हुई। जवानों पर तस्करों ने हमला किया। बचाव में जवानों ने तीन राउंड फायरिंग की। अंधेरे और कोहरे का फायदा उठाकर तस्कर फरार हो गए लेकिन मौके से नौ मवेशी बरामद हुए। क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया गया तो 57 अन्य मवेशी बरामद हुए। इसके बाद जवानों ने नदिया जिले के कृष्णा नगर सेक्टर अंतर्गत मामाभगिना बॉर्डर आउटपोस्ट के पास एक बैग बरामद किया। उसमें 10 किलोग्राम गांजा बरामद किया गया। मवेशी और गांजा स्थानीय थाना और कस्टम विभाग को सौंप दिए गए हैं। सीमा सुरक्षा बल ने इस वर्ष अब तक सीमा पर 1309 मवेशी बरामद करने के साथ 53 किलोग्राम गांजा जब्त किया है।

Posted in उत्तरप्रदेश

मुरादाबाद-सहारनपुर रूट की  कई ट्रेनों का संचालन 18 तक प्रभावित 

लखनऊ,16 जनवरी । रेलवे प्रशासन ने मुरादाबाद-सहारनपुर रेलखंड में ट्रेनों का संचालन और बेहतर करने के लिए लूप लाइन बनाने का कार्य गुरूवार से शुरू कर दिया है। इसके चलते मुरादाबाद-सहारनपुर रूट की कई ट्रेनों का संचालन अब 18 जनवरी तक प्रभावित रहेगा।मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी दीपक कुमार ने बताया कि मुरादाबाद मंडल के रसुइया-पीताम्बरपुर स्टेशनों के बीच लूप लाइन बनाने का कार्य गुरूवार से शुरू हो गया है। इसलिए हरिद्वार-प्रयागघाट एक्सप्रेस,मेरठ-लखनऊ राज्यरानी सुपरफास्ट एक्सप्रेस,टनकपुर-सिंगरौली त्रिवेणी एक्सप्रेस,लखनऊ-काठगोदाम एक्सप्रेस, काठगोदाम-लखनऊ एक्सप्रेस 17 जनवरी को, जबकि सिंगरौली-टनकपुर त्रिवेणी एक्सप्रेस 18 जनवरी को निरस्त रहेंगी। इसके अलावा सहरसा से अमृतसर जाने वाली गरीब रथ 17 जनवरी को चारबाग पहुंचकर कानपुर के रास्ते गाजियाबाद होकर चलाई जाएगी। उन्होंने ब​ताया कि शक्तिनगर-टनकपुर त्रिवेणी एक्सप्रेस 17 जनवरी को लखनऊ मंडल में दो घंटे रोककर चलाई जाएगी जबकि हिमगिरी एक्सप्रेस, सियालदह एक्सप्रेस एवं अवध-आसाम एक्सप्रेस अपने निर्धारित स्टेशन से देरी से छूटेंगी। इससे यात्रियों को दिक्कतें हो सकती हैं।

 

Posted in उत्तरप्रदेश

फूलपुर में युवक की सिर कूचकर हत्या, पुलिस छानबीन में जुटी

वाराणसी, 16 जनवरी । फूलपुर थाना क्षेत्र के घोंघरी गांव में एक 35 वर्षीय युवक की बदमाशों ने सिर कूचकर हत्या कर दी। गुरूवार को सूचना पाते ही क्षेत्रीय पुलिस के साथ ग्रामीण पुलिस अधीक्षक भी मौके पर पहुंच कर छानबीन में जुट गये। पूछताछ आदि के कार्यवाही के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।घोंघरी गांव निवासी युवक सुनील गिरी उर्फ डब्लू पेशे से आटो चालक था। आज सुबह उसका रक्त रंजित शव उसके घर के पास स्थित पड़ोसी के बाउन्ड्री में मिला। पड़ोसियों के शोर मचाने पर घर के सदस्यों के साथ गांव के लोग भी वहां पहुंच गये। संभावना जताई गई कि सुनील के सिर और मुंह पर किसी धारदार हथियार से मार कर हत्या करने के बाद शव बाउन्ड्री में फेंक कर बदमाश भाग निकले। सूचना पर मौके पर पुलिस पहुंचकर छानबीन में जुट गई। सूत्रों ने बताया कि सुनील की हत्या जमीन के बटवारें के विवाद में हुई है। जमीनी विवाद में सुनील की अपने पट्टीदारों से मारपीट हुई थी। जिसमें वह गम्भीर रूप से जख्मी हो गया था। इस मामले में उसने चार लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया था। सुनील के पत्नी का निधन पहले ही हो चुका है। वह अपने दो पुत्रों व मां के साथ रहता था।

 

Posted in उत्तरप्रदेश

किशोर ने सात वर्षीय छात्रा से किया दुष्कर्म, गिरफ्तार 

नोएडा, 16 जनवरी। उत्तर प्रदेश के जिला गौतमुद्धनगर के जारचा थाना अंतर्गत खुर्शीदपूरा गांव में सात वर्षीय छात्रा के साथ उसके पड़ोस में ही रहने वाले 16 वर्षीय किशोर ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया है। आरोपित किशोर को गिरफ्तार कर लिया गया है। थाना निरीक्षक जारचा अनिल कुमार ने गुरुवार को बताया कि बीती रात छात्रा की मां ने थाने में तहरीर दी थी। इसके अनुसार छात्रा शाम को अपने घर के बाहर खेल रही थी। तभी पड़ोस का 16 वर्षीय छात्र बहला फुसलाकर बच्ची को अपने घर में ले गया। घटना के दौरान छात्र के घर में कोई नहीं था। वहीं उसने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। बच्ची की मां ने छात्र को संदिग्ध अवस्था में पकड़ा था।थाना निरीक्षक ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद छात्रा का मेडिकल करवाया गया, जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि के बाद गुरुवार को छात्र को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश किया गया है। वहां से उसे बाल सुधार गृह भेज दिया गया है।

Posted in उत्तरप्रदेश

फर्रुखाबाद : जीवन जीने की कला का नाम है बीत राग – महामंडलेश्वर पांचाल घाट पर मकर संक्रांति पर लगे रामनगरिया मेले में कल्पवासी कर रहे ध्यान

फर्रुखाबाद, 15 जनवरी। जिले के पांचाल घाट पर लगे मेला रामनगरिया में मकर संक्रांति के अवसर पर बद्रीनाथ धाम से आए महामंडलेश्वर जय देवानंद सरस्वती ने कल्पवासियों को ‘जीवन एक कला है’ की जानकारी दी। महामंडलेश्वर ने कहा कि इस कला को जानने के लिए साधक को गहन ध्यान में डुबकी लगानी पड़ती है। ध्यान में डुबकी लगाने के बाद साधक जीवन जीने की कला जान जाता है। उन्होंने कहा कि जो लोग राग और विराग से अलग हटकर बीत राग में जीते हैं, सचमुच वह जीने की कला जान जाते हैं। महामंडलेश्वर ने कहा कि अगर रागी को यह अभिमान है कि उसके पास अकूत सम्पदा है। उसने महल अटारी खड़ी कर रखे हैं, तो विरागी को यह अभिमान है कि उसने अपनी अकूत सम्पदा में लात मार दी और वह सन्यासी हो गया। राग और विराग दोनों ही एक ही सिक्के के दो पहलू है, इन दोनों में ही अहंकार निहित है। जहां अहंकार निहित है, वहां आनंद की गंगा बहने की कोई संभावना नहीं है। वहां जीवन जीने की कला सीखने की कोई गुंजाइश नहीं है। इन दोनों स्थितियों से अलग हटकर एक स्थिति बीत राग की आती है। बीत राग उस कला का नाम है जिसमें साधक हर स्थिति में संतोष करता है। उसके पास जो है वह पर्याप्त है। राम जिस विधि से उसे रख रहा है, उसी में संतुष्ट है। उसे कोई मोह आशा नहीं है। यह स्थिति आने पर साधक जीवन जीने की कला सीख जाता है और जो जीवन जीने की कला सीख जाते हैं, उनके जीवन में आनंद की अनवरत गंगा बहने लगती है। राग और विराग से अलग हटने के लिए बीत राग में जीने की कला सीखने के लिए ध्यान में प्रवेश करना जरूरी है। ध्यान के बिना इस कला को जानना बहुत मुश्किल है। ध्यान के माध्यम से इस कला को जाना जा सकता है। उन्होंने साधकों से कहा कि बीत राग में जीने के लिए इससे बढ़िया मौका कोई नहीं है। जो लोग इस कला को सीखना चाहते हैं वह गंगा की कल—कल ध्वनि के साथ सुबह—शाम ध्यान लगाएं और आत्मा—परमात्मा की जानकारी कर अपने जीवन को धन्य बनाएं। इस मौके पर भारी संख्या में कल्पवासी मौजूद रहें।

 

Posted in उत्तरप्रदेश

कौटिल्य टीम ने जीती रोमांचकारी बुलबुल प्रतियोगिता 

मीरजापुर, 15 जनवरी ।10 राउंड तक चली प्रतियोगिाता, 114 टीमों ने लिया हिस्सा मकर संक्रांति के एक दिन पहले विंध्याचल की परंपरागत बुलबुल प्रतियोगिता का फाइनल परिणाम बुधवार को घोषित किया गया। रोमांचकारी बुलबुल प्रतियोगिता का प्रथम पुरस्कार कौटिल्य बुलबुल टीम के राजू पाठक हासिल करने में सफल रहे। जबकि द्वितीय पुरस्कार डी कंपनी के धीरज मोहन मिश्र एवं रतन मोहन मिश्रा को प्रदान किया गया। विंध्याचल के खत्री धर्मशाला में मंगलवार की सुबह से प्रतियोगिता का शुभारंभ हुआ। बुलबुल दंगल में कुल 114 टीमों ने भाग लिया। चार-चार बुलबुल की टीम बनाई गई। 10वें राउंड में प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबला हुआ। इससे पहले मंगलवार की को देर रात 11 बजे रात तक सभी राउंड की प्रतियोगिताएं पूरी की गईं। 12 घंटे बाद प्रतियोगिता का परिणाम घोषित किया गया। कौटिल्य टीम के मालिक राजू पाठक को प्रथम पुरस्कार के रूप में 40 इंच की एलसीडी टीवी दिया गया। वहीं द्वितीय पुरस्कार डी कंपनी सीटू के मालिक धीरज मिश्रा एवं रतन मोहन मिश्रा को 32 इंच एलसीडी टीवी प्रदान किया गया। तृतीय पुरस्कार श्रेयांश टीम के मालिक रघुवर दयाल उपाध्याय को दिया गया। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले बुलबुल मालिकों को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। रेफरी की भूमिका में राजीव पाठक, धीरज मिश्रा, रतन मोहन मिश्रा रहे। इस दौरान प्रियेश पाठक, पवन मिश्रा, विजय गोस्वामी, नितिन द्विवेदी, कन्हैया द्विवेदी, अजय त्रिपाठी, निर्भय मिश्रा, संजय पांडेय, पुनीत मिश्रा, डब्बू मिश्रा आदि मौजूद रहे। आजाद हो गई बुलबुलविंध्याचल की अनोखी बुलबुल प्रतियोगिता की पंरपरा के अनुसार प्रतियोगिता की सभी विजेता, उपविजेता बुलबुलों को प्रतियोगिता समाप्त होने के बाद जंगलों में ले जाकर आजाद कर दिया गया।

 

Posted in उत्तरप्रदेश राज्य

पौधरोपण घोटाला: 7 की जगह 70 रुपये में खरीदा गया एक पौधा

लखीमपुर-खीरी, 11 जनवरी (हि.स.)। मितौली ब्लॉक में पौधरोपण अभियान में बड़ा घोटाला सामने आया है। शनिवार को एक टीम मामले में कार्रवाई के लिए मुख्य विकास अधिकारी से मिलने लखीमपुर पहुंची। हालांकि इससे पहले सीडीओ खीरी द्वारा की गई जांच में यह घोटाला पाया गया है।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीते वर्ष पौधरोपण अभियान चलाया गया था। इस अभियान के तहत हर ग्राम पंचायत में पौधरोपण किया जाना था। जिसके लिए सरकारी नर्सरी से मुफ्त पौधे मिलने थे। अगर किसी दशा में सरकारी नर्सरी से पौधे नहीं मिल पाए तो सात रुपये प्रति दर से पौधे खरीदने के आदेश दिए गए थे, परंतु मितौली बीडीओ की स्तुति पर ग्राम पंचायतों के सचिवों ने 70 रुपये का एक पौधा लखनऊ से खरीद करवाया था। मुख्यमंत्री द्वारा चलाए गए इस अभियान में देशभर में एक साथ पौधरोपण किया गया था। इस मामले में मितौली ब्लॉक के कई ग्राम प्रधानों ने कस्ता विधायक सौरभ सिंह सोनू के नेतृत्व में डीएम को इस घोटाले की जांच के लिए प्रार्थना पत्र सौंपा था। ग्राम प्रधानों की शिकायत पर जिलाधिकारी खीरी शैलेंद्र कुमार सिंह ने मुख्य विकास अधिकारी अरविंद सिंह को जांच सौंपी थी। जांच में प्रधानों द्वारा लगाया गया आरोप सत्य पाया गया है। जिसके बाद मुख्य विकास अधिकारी ने मामले की जानकारी उच्च अधिकारी को दी  और अब अग्रिम कार्यवाही के लिए एक टीम लखनऊ से लखीमपुर पहुंची है।