Category: खेल

Posted in खेल

आयुध अधिनियम, 1959 मे जारी अधिसूचना तथा आयुध नियम, 2016 मे किए बदलाव के अनुसार खिलाडियों द्वारा रखे जा सकने वाले अग्नायुधों में काफी बढोतरी

शूटिंग भारत में एक महत्वपूर्ण ओलंपिक खेल है। भारतीय निशानेबाजो नें अंतराष्ट्रीय स्पर्धाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। इसे ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने आयुध अधिनियम, 1959 के अंतर्गत जारी अधिसूचना के तहत भारतीय निशानेबाज़ो को अभ्यास के लिए अब पर्याप्त मात्रा में अग्नायुधों तथा गोला बारूद की पहुँच होगी। गृह मंत्रालय ने दिनांक 12 फरवरी 2020 को आयुध अधिनियम, 1959 मे जारी अधिसूचना तथा आयुध नियम, 2016 मे किए बदलाव के अनुसार खिलाडियों के द्वारा रखे जा सकने वाले अग्नायुधों तथा वर्ष के दौरान तय की गयी गोला बारुद की मात्रा में काफी बढोतरी की गई है। इससे उनके शस्त्र अभ्यास में अत्याधिक सुविधा होगी।नए नियमों के अनुसार अब अंतर्राष्ट्रीय पदक विजेता/विख्यात निशानेबाज को कुल बारह तक अतिरिक्त शस्त्र रखने की रियायत दी है जो पहले सात थी। यदि कोई निशानेबाज एक प्रतियोगिता में विख्यात है तो उसे अधिकतम आठ (पहले चार थी), यदि कोई निशानेबाज दो प्रतियोगिताओं में विख्यात है तो उसे अधिकतम दस (पहले सात थी) और यदि कोई निशानेबाज दो से अधिक प्रतियोगिताओं में विख्यात है तो उसे अधिकतम बारह (पहले सात थी) शस्त्र रखने की रियायत दी है। कनिष्ठ लक्ष्य/महत्वाकांक्षी निशानेबाज को अब किसी भी वर्ग के दो (पहले एक शस्त्र की थी) शस्त्र रखने की रियायत दी है। इस प्रावधान के उपरान्त खिलाड़ी तरह तरह के शस्त्रों से अभ्यास कर सकेंगे। इन रियायत वर्गों के शस्त्रों के अतिरिक्त भी खिलाड़ी दो शस्त्र आयुध अधिनियम, 1959 के अंतर्गत बतौर एक सामान्य नागरिक रख सकते हैं।इसी तरह आयुध नियम – 40 में किए बदलाव के अनुसार खिलाडियों को अभ्यास के लिये वर्ष के दौरान क्रय की जा सकने वाली गोला बारूद की मात्रा में भी भारी बढोतरी की है। नए नियमों के अनुसार अब .22 LR राइफल / पिस्तौल के लिए 1000 के स्थान पर 5000, दूसरी तरह की पिस्तौल /रिवाल्वर के लिए 600 के स्थान पर 2000 तथा शॉटगन कैलिबर के लिए 500 के स्थान पर 5000 गोला बारूद की मात्रा खरीदी जा सकती हैइसके अतिरिक्त गृह मंत्रालय ने आयुध अधिनियम, 1959 में आयुध अधिनियम (संशोधन), 2019 के तहत किये संशोधनों के कारण आयुध नियम, 2016 में अन्य ज़रूरी संशोधन भी किए हैं। इन संशोधनों के तहत यह भी स्पष्ट किया है कि भारतीय नागरिकों को 50 साल से पुराने दुर्लभ वस्तु की श्रेणी में आने वाले लघु आयुधों के अर्जन अथवा कब्जे के लिए लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होगी। परंतु ऐसे आयुधों के उपयोग, वहन या परिवहन के लिए उपयुक्त लाइसेंस की आवश्यकता होगी। इस तरह के आवश्यक लाइसेंस में प्रविष्टि के बिना धारक को उनके उपयोग हेतु गोला-बारूद की बिक्री नहीं की जाएगीज्ञात हो कि आयुध (संशोधन) अधिनियम, 2019 द्वारा किए गये संशोधन के तहत किसी व्यक्ति द्वारा रखे जाने वाले अग्नायुधों की अधिकतम संख्या को तीन से घटाकर दो कर दिया गया है। जिन व्यक्तियों के पास लाइसेंस पर तीन अग्नायुध है उन्हें अपना कोई भी एक अग्नायुध 13.12.2020 तक अधिनियम में दिए गये प्रावधान के अनुसार जमा करने की सुविधा दी गयी है।

Posted in खेल

खेळाडूंनी सातत्यपूर्ण मेहनत, जिद्दीने राष्ट्रीय पातळीवर यश संपादन करावे – राज्यमंत्री आदिती तटकरे

पुणे

वडगाव मावळ परिसरातील खेळाडूंचा राज्यात नावलौकीक असून विविध क्रीडास्पर्धांमध्ये या खेळाडूंनी कौतुकास्पद कामगिरी केली आहे. ग्रामीण भागातील खेळाडूंना आणखी प्रोत्साहन मिळावे, यासाठी सर्व सोयीसुविधांनी सुसज्ज असे क्रीडा संकुल उभारण्यात येईल. खेळाडूंनी सातत्यपूर्ण मेहनत, जिद्दीने राष्ट्रीय पातळीवर यश संपादन करावे, असे आवाहन क्रीडा व युवक कल्याण राज्यमंत्री आदिती तटकरे यांनी केले.वडगाव मावळ येथे नगराध्यक्ष चषक क्रीडा महोत्सवातील विजेता खेळाडूंना व राष्ट्रीय पातळीवर यश मिळविलेल्या खेळाडूंचा क्रीडा राज्यमंत्री तटकरे यांच्या हस्ते गौरव करण्यात आला. यावेळी आयोजित कार्यक्रमात त्या बोलत होत्या. यावेळी आमदार सुनील शेळके, नगराध्यक्ष मयुर ढोरे, बबनराव भेगडे, बाबा ढोरे, जिल्हा क्रीडा अधिकारी विजय संतान आदी उपस्थित होते.क्रीडा राज्यमंत्री तटकरे म्हणाल्या की, नगराध्यक्ष चषक स्पर्धा ही ग्रामीण भागातील खेळाडूंना त्यांच्यातील क्रीडा गुण वाढीसाठी तसेच खेळाडूंना योग्य व्यासपीठ मिळावे, यासाठी या क्रीडा स्पर्धा महत्त्वपूर्ण आहेत. ग्रामीण भागातील खेळ टिकून राहिले पाहिजे, यासाठी लोकप्रतिनिधी प्रयत्न करतात. ही कौतुकास्पद बाब आहे.खेलो इंडियात महाराष्ट्राने चांगली कामगिरी केल्याचे सांगून क्रीडा राज्यमंत्री तटकरे म्हणाल्या राज्यातील खेळाडूंच्या क्रीडा गुणांना वाव देण्यासाठी राज्य शासनाच्या वतीने विविध स्पर्धांचे आयोजन करण्यात येते. या स्पर्धासांठी सोयीसुविधा उपलब्ध करून देण्यात येतात. खेळाडूंनी या संधीचा लाभ घ्यावा, असे सांगून नगराध्यक्ष चषकच्या माध्यमातून कबड्डी स्पर्धा, वेटलिफ्टिंग स्पर्धेतूनही अनेक खेळाडू पुढे येत असल्याबाबत त्यांनी समाधान व्यक्त केले.श्री.शेळके म्हणाले, ग्रामीण भागातील युवक युवतींना या क्रीडा स्पर्धा व्यासपीठ उपलब्ध करून देतात. या खेळाडूंसाठी अत्याधुनिक क्रीडा संकुल उपलब्ध करून देण्यासाठी आपण पाठपुरावा करत असल्याचे त्यांनी सांगितले.प्रास्ताविक करताना नगराध्यक्ष मयुर ढोरे यांनी नगराध्यक्ष चषक क्रीडा स्पर्धेच्या आयोजनाबाबतची भूमिका स्पष्ट केली. यावेळी विविध क्रीडा स्पर्धेत यश मिळविलेल्या खेळाडूंचा सन्मानचिन्ह देऊन सत्कार करण्यात आला. यावेळी क्रीडा प्रशिक्षक, क्रीडा प्रेमी, खेळाडू मोठ्या संख्येने उपस्थित होते.

Posted in खेल

खो खो खेळाच्या माध्यमातून खेळाडूंनी देशाचे नाव उज्ज्वल करावे – पालकमंत्री बाळासाहेब पाटील

सातारा – खो खो खेळाच्या राष्ट्रीय स्पर्धांतून जिल्ह्याची एक नवी ओळख निर्माण होणार असून खेळाडूंनी चमकदार कामगिरी करून या खेळाचा नावलौकिक वाढवावा. आंतराराष्ट्रीय स्तरावर देशाचे नाव उज्ज्वल करावे असे प्रतिपादन सातारा जिल्ह्याचे पालकमंत्री बाळासाहेब पाटील यांनी केले. क्रीडा व युवक संचालनालय महाराष्ट्र राज्य, जिल्हा क्रीडा अधिकारी कार्यालय सातारा व फलटण एज्युकेशन सोसायटी,फलटण यांच्या संयुक्त विद्यमाने आयोजित 65 व्या राष्ट्रीय शालेय खो-खो स्पर्धेचे उद्घाटन प्रसंगी पालकमंत्री बाळासाहेब पाटील बोलत होते. कार्यक्रमाच्या अध्यक्षस्थानी विधानपरिषद सभापती रामराजे नाईक निंबाळकर होते.प्रारंभी पालकमंत्री श्री. पाटील यांच्या हस्ते ध्वजारोहण करुन ज्योत प्रज्वलित करण्यात आली. तसेच त्यांच्या हस्ते हवेत फुगे सोडून स्पर्धेची सुरुवात करण्यात आली. यावेळी पुढे बोलताना श्री.पाटील म्हणाले, ऐतिहासिक फलटण शहरामध्ये अनेक खेळांना प्रोत्साहन देण्याचे काम सातत्याने होत असते. आज देशपातळीवरील स्पर्धा येथे आयोजित केली आहे. अशा स्पर्धा घेणे हे मोठे जोखमीचे काम आहे. अशा स्पर्धांचे नियोजन करणे ही फार मोठी जबाबदारी असते. या खेळाला चालना देत असताना अशा प्रकारच्या क्रीडा स्पर्धा राज्य शासनामार्फत घेतल्या जातात. आज या स्पर्धेच्या निमित्ताने देशभरातून आलेल्या खेळाडूंना महाराष्ट्राच्या संस्कृतीचे दर्शन घडले. या नगरीमधील परंपरा त्यानिमित्ताने पुढे आली. विविध राज्यांमधून आलेल्या खेळाडूंची सोय येथे चांगल्या प्रकारे करण्यात आली आहे. खो-खो, कबड्डी किंवा अन्य खेळांच्या स्पर्धा राज्य शासनाच्या माध्यमातून आयोजित करण्यात येत असलेल्या राज्य व राष्ट्रीय स्तरावरील स्पर्धा स्थानिक कार्यकर्त्यांच्या नियोजनाशिवाय यशस्वी होत नसल्याचे त्यांनी नमूद केले.छत्रपती शिवरायांची भूमी आणि खेळ व लोककलांच्या ऐतिहासिक महत्त्वाने संपन्न असलेल्या या भूमीत देशाच्या विविध भागातून आलेल्या खेळाडूंचे स्वागत करताना आपल्याला अतीव आनंद झाल्याचे विधानपरिषदेचे सभापती रामराजे नाईक निंबाळकर यांनी सांगितले. येथील खो-खो चे प्रेरणादायी वातावरण खेळाडूंना सतत प्रेरणा देत राहील असा विश्वासही त्यांनी व्यक्त केला. दरम्यान स्पर्धेच्या उद्घाटन समारंभात स्थानिक शालेय विद्यार्थ्यांनी आंध्र राज्यातील लमाणी नृत्य आणि महाराष्ट्रीय दांडपट्टा, लाठीकाठीचे प्रात्यक्षिक, छ. शिवाजी महाराज यांच्या राज्यकारभाराची वैशिष्ट्ये, लेझीम मधील विविध क्रिडाप्रकार उत्तम प्रकारे सादर केले. फलटणला लाभलेल्या खेळाच्या उज्वल परंपरेच्या पार्श्वभूमीवर राज्य व राष्ट्रीय स्तरावरील स्पर्धांमध्ये उज्ज्वल यश आणि सुवर्णपदक प्राप्त खेळाडूंचा पालकमंत्री श्री. पाटील यांच्या हस्ते सत्कार करण्यात आला. स्पर्धेसाठी देशाच्या 20 राज्यातून मुलांचे 30 व मुलींचे 30 असे एकूण 60 संघ दाखल झाले असून त्या माध्यमातून सुमारे 900 ते 1000 खेळाडू, 250 क्रिडा मार्गदर्शक, संघ व्यवस्थापक आणि 100 वर पंच येथे दाखल झाले आहेत. स्पर्धांसाठी श्रीमंत शिवाजीराजे क्रिडा नगरीमध्ये 4 मैदाने तयार करण्यात आली आहेत. प्रेक्षकांसाठी सुमारे 5 हजार क्षमतेची प्रेक्षक गॅलरी उभारण्यात आली असल्याचे प्रस्ताविकात महाराष्ट्र खो-खो असोसिएशनचे अध्यक्ष संजीवराजे नाईक निंबाळकर यांनी सांगितले. कार्यक्रमाचे आभार प्रदर्शन क्रीडा समिती फलटण एज्युकेशन सोसायटी फलटणचे चेअरमन शिवाजीराव घोरपडे यांनी केले. यावेळी आ. दिपक चव्हाण, महानंदचे उपाध्यक्ष डी.के.पवार, महाराष्ट्र खो-खो असोसिएशनचे अध्यक्ष श्रीमंत संजीवराजे नाईक निंबाळकर, आदींसह नागरिक मोठ्या संख्येने उपस्थित होते.

Posted in खेल

मंत्री श्री पांसे का दौरा कार्यक्रम

भोपाल

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री सुखदेव पांसे 25 से 29 जनवरी तक छिंदवाड़ा और बैतूल जिले के दौरे पर रहेंगे। श्री पांसे 25 जनवरी को मुलताई से छिंदवाड़ा जायेंगे। मंत्री श्री पांसे 26 जनवरी को छिंदवाड़ा में गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण करेंगे। वे इसी दिन वापस मुलताई आकर शहीद मनोज चौरे की मूर्ति का लोकार्पण करेंगे और व्ही.आई.पी. स्कूल के कार्यक्रम में शामिल होंगे। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री पांसे 27 जनवरी को ग्राम जोलखेड़ा (मुलताई) में हाट-बाजार का उद्घाटन करेंगे। जनवरी 28 को तीगाँव (पांढुर्ना) में क्रिकेट टूर्नामेंट के पुरस्कार वितरण के कार्यक्रम में शामिल होंगे और 29 जनवरी बैतूल जिले के ग्राम पंचायत सिलादेही और भैसा दण्ड के कार्यक्रम में शामिल होंगे। श्री पांसे मायाबाड़ी में विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

Posted in खेल

समारोहपूर्वक मनाया जाएगा 10वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस

भारत निर्वाचन आयोग ने आयोग के स्थापना दिवस को राष्ट्रीय मतदाता दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है इसी तारतम्य में आयोग के स्थापना दिवस 25 जनवरी को समारोहपूर्वक मनाया जाएगा। इस वर्ष राज्य स्तरीय समारोह भोपाल में राज्यपाल के मुख्य आतिथ्य में होगा। कार्यक्रम में राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री बी.पी.सिंह, अपर मुख्य सचिव श्री एम.गोपाल रेड्डी, तथा मतदाता जागरूकता के स्टेट आईकॉन श्री राजीव वर्मा, श्रीमती दिव्यंका त्रिपाठी दाहिया तथा सुश्री देशना जैन विशिष्ट अतिथि होंगे।मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल.कांताराव ने बताया कि, राष्ट्रीय मतदाता दिवस को समारोहपूर्वक मनाने की शुरूआत 25 जनवरी 2011 से हुई थी। तब से प्रतिवर्ष यह आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष समारोह की थीम ‘मजबूत लोकतंत्र के लिये चुनावी साक्षरता’ विषय पर आधारित है। समारोह में राजनैतिक दल, मतदाता, विद्यार्थी और नागरिक की उपस्थिति रहेगी। श्री कान्ताराव ने बताया कि समारोह सुबह 11 बजे शुरू होगा। समारोह में मुख्य निर्वाचन आयुक्त भारत निर्वाचन आयोग के मतदाताओं के नाम संदेश का वाचन किया जायेगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि द्वारा 10 चयनित युवा मतदाताओं को EPIC का वितरण, विद्यालय एवं महाविद्यालय में स्लोगन, निबंध, चित्रकला, वाद-विवाद प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त विद्यार्थियों को पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र दिये जायेंगे। कार्यक्रम में लोकसभा निर्वाचन 2019 में श्रेष्ठ कार्य करने वाले जिला निर्वाचन अधिकारियों, आयुक्त नगर निगम, उप जिला निर्वाचन अधिकारी तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, पुलिस अधीक्षक एवं उप पुलिस अधीक्षक को भी पुरस्कृत किया जायेगा।समारोह में राज्यपाल द्वारा मतदाताओं को लोकतंत्र में पूर्ण आस्था रखते हुए स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन की गरिमा को अक्षुण्ण रखते हुए निर्भीक होकर मताधिकार का प्रयोग करने की शपथ दिलाई जाएगी। विद्यालयीन महाविद्यालयीन छात्र-छात्राएँ होंगे पुरस्कृत राष्ट्रीय मतदाता दिवस के राज्य स्तरीय समारोह में राज्यपाल द्वारा विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में स्लोगन, निबंध, चित्रकला, वाद-विवाद प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले 30 छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया जाएगा। महाविद्यालय के विद्यार्थियों में स्लोगन प्रतियोगिता में कु. दीक्षा पाण्डे रीवा, रक्षान्षु नामदेव नरसिंहपुर व पूनम उईके बालाघाट, निबंध प्रतियोगिता में कु. भावना ओझा ग्वालियर, कु. रिया कारा नीमच, कु.प्रतिभा पाटिल कटनी, चित्रकला में श्री दिलीप नामदेव दमोह, कु. अंजली अहिरवार सागर, कु.कृतिका यादव इन्दौर, वाद-विवाद प्रतियोगिता पक्ष में स्वाती बरदिया भोपाल, मनीष चतुर्वेदी इन्दौर, प्रयोग दुबे विदिशा, वाद-विवाद प्रतियोगिता विपक्ष मे शिवंम वर्मा भिण्ड, उमेश पंसारी सीहोर, माही शर्मा इन्दौर को पुरस्कृत किया जाएगा।विद्यालय स्तर की स्लोगन प्रतियोगिता में रवि सिंह लौधी दमोह, अनिकेत पाल विदिशा, संदीप बामनिया उज्जैन, निबंध प्रतियोगिता में अचल साहू सीहोर, तुषार मीना विदिशा, सुमन चौधरी रायसेन, चित्रकला प्रतियोगिता में अमन साहू टीकमगढ, मुस्कान प्रजापति देवास, दिव्या नागपुर बालाघाट, वाद-विवाद प्रतियोगिता पक्ष में कु. आकांक्षा तिवारी सिवनी, कु.मुस्कान यादव होशंगाबाद, भूपेन्द्र वामटे बैतूल, वाद-विवाद प्रतियोगिता विपक्ष में अंबर शर्मा सीहोर, आयुष राठौर बैतूल एवं कु. सुषमा बिसेन सिवनी को पुरस्कृत किया जाएगा।

Posted in खेल

राष्ट्रपति ने प्रदेश की बालिकाओं को राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने प्रदेश की 2 बालिकाओं रिया जैन और सुदीप्ति हजेला को राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया है। भोपाल की रिया जैन को कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया गया है। उन्होंने चित्रकला के क्षेत्र में राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रतिभा का पदर्शन किया है। इसी प्रकार खेलों के क्षेत्र में इंदौर की सुदीप्ति हजेला को कठिन अश्वारोहण खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया। वे अश्वारोहण की सबसे कठिन श्रेणी में महारत रखती हैं उल्लेखनीय है कि उक्त पुरस्कार विभिन्न क्षेत्रों में 5 से 18 वर्ष आयु के बच्चों को उनकी विशेष प्रतिभा के लिए प्रदान किये जाते हैं। पुरस्कार के रूप में विजेताओं को मैडल, प्रशस्ति-पत्र, एक लाख रूपये की धनराशि और प्रमाण-पत्र प्रदान किये जाते हैं।

Posted in खेल

“खेलो इंडिया” यूथ गेम्स में पदक विजेताओं को मिलेगी प्रोत्साहन राशि

भोपाल।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने असम के गुवाहटी में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों के अद्वितीय प्रदर्शन की सराहना करते हुए पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी है। उन्होंने स्वर्ण पदक विजेता को एक लाख, रजत पदक विजेता को 75 हजार तथा कांस्य पदक विजेता को 50 हजार रूपये प्रोत्साहन राशि दिए जाने की घोषणा की है।खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री जीतू पटवारी ने पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल अधोसंरचना, आधुनिक और वैज्ञानिक पद्धति से प्रशिक्षण, खेल उपकरण जैसी सभी सुविधाएँ सुलभ कराई जा रही है। इसी का परिणाम है कि हमारे खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। खेलो इंडिया में प्रदेश को पिछले वर्ष सिर्फ 8 स्वर्ण पदक मिले थे। इस वर्ष प्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण प्राप्त किये हैं।मध्यप्रदेश को मिले 46 पदक खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण, 11 रजत 20 कांस्य सहित कुल 46 पदक प्राप्त किये। खिलाड़ियों ने ये पदक एथलेटिक्स, जूडो, तीरंदाजी, टेबल टेनिस, शूटिंग, कुश्ती, तैराकी, बैडमिंटन, वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग खेल में हासिल किये। वर्ष 2019 में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों ने 8 स्वर्ण, 8 रजत और 15 कांस्य सहित कुल 31 पदक हासिल किये थे।मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने असम के गुवाहटी में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों के अद्वितीय प्रदर्शन की सराहना करते हुए पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी है। उन्होंने स्वर्ण पदक विजेता को एक लाख, रजत पदक विजेता को 75 हजार तथा कांस्य पदक विजेता को 50 हजार रूपये प्रोत्साहन राशि दिए जाने की घोषणा की है।खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री जीतू पटवारी ने पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल अधोसंरचना, आधुनिक और वैज्ञानिक पद्धति से प्रशिक्षण, खेल उपकरण जैसी सभी सुविधाएँ सुलभ कराई जा रही है। इसी का परिणाम है कि हमारे खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। खेलो इंडिया में प्रदेश को पिछले वर्ष सिर्फ 8 स्वर्ण पदक मिले थे। इस वर्ष प्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण प्राप्त किये हैं।मध्यप्रदेश को मिले 46 पदक‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण, 11 रजत 20 कांस्य सहित कुल 46 पदक प्राप्त किये। खिलाड़ियों ने ये पदक एथलेटिक्स, जूडो, तीरंदाजी, टेबल टेनिस, शूटिंग, कुश्ती, तैराकी, बैडमिंटन, वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग खेल में हासिल किये। वर्ष 2019 में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों ने 8 स्वर्ण, 8 रजत और 15 कांस्य सहित कुल 31 पदक हासिल किये थे।मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने असम के गुवाहटी में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों के अद्वितीय प्रदर्शन की सराहना करते हुए पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी है। उन्होंने स्वर्ण पदक विजेता को एक लाख, रजत पदक विजेता को 75 हजार तथा कांस्य पदक विजेता को 50 हजार रूपये प्रोत्साहन राशि दिए जाने की घोषणा की है। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री जीतू पटवारी ने पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल अधोसंरचना, आधुनिक और वैज्ञानिक पद्धति से प्रशिक्षण, खेल उपकरण जैसी सभी सुविधाएँ सुलभ कराई जा रही है। इसी का परिणाम है कि हमारे खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। खेलो इंडिया में प्रदेश को पिछले वर्ष सिर्फ 8 स्वर्ण पदक मिले थे। इस वर्ष प्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण प्राप्त किये हैं मध्यप्रदेश को मिले 46 पद ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों ने 15 स्वर्ण, 11 रजत 20 कांस्य सहित कुल 46 पदक प्राप्त किये। खिलाड़ियों ने ये पदक एथलेटिक्स, जूडो, तीरंदाजी, टेबल टेनिस, शूटिंग, कुश्ती, तैराकी, बैडमिंटन, वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग खेल में हासिल किये। वर्ष 2019 में ‘खेलो इंडिया’ यूथ गेम्स में प्रदेश के खिलाड़ियों ने 8 स्वर्ण, 8 रजत और 15 कांस्य सहित कुल 31 पदक हासिल किये थे।

Posted in खेल

भूपेन्द्र सिंह चौहान स्मृति क्रिकेट टूर्नामेंट में पुरस्कार वितरण

भोपाल।
जनसम्पर्क
, मंत्री श्री पी.सी. शर्मा और पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह ने कल रात भूपेन्द्र सिंह चौहान स्मृति नाईट किक्रेट टूर्नामेंट के विजेता खिलाडियों को ट्रॉफी और पुरस्कार वितरित किये। एन.सी.सी. ग्राउंड 1100 क्वार्टर्स में 12 दिन तक चले इस टूर्नामेंट में 32 टीमों ने हिस्सा लिया। तारिक इलेवन टीम विनर और सारिक इलेवन टीम रनर अप रही।
विजेता टीम को ट्रॉफी के साथ 71 हजार रूपये नगद पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर विधायक श्री आरिफ मसूद और श्री इश्वर सिंह चौहान, सैय्यद साजिद अली तथा बडी संख्या में किक्रेट प्रेमी मौजूद थे।

Posted in खेल दिल्ली

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले पर हरभजन सिंह ने व्यक्त की चिंता

– पाकिस्तान प्रधानमंत्री इमरान खान से किया हस्तक्षेप का आग्रह

नई दिल्ली । पाकिस्तान में स्थित सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल श्री ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर भीड़ के हमले पर क्रिकेटर हरभजन सिंह ने चिंता व्यक्त की और पाक प्रधानमंत्री इमरान खान से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया।  हरभजन सिंह ने शनिवार को ट्विटर पर उस शख्स के दो वीडियो साझा किए, जो भीड़ का नेतृत्व कर रहा था और ऐतिहासिक सिख मंदिर की जगह मस्जिद बनाने की धमकी दे रहा था। उन्होंने ट्वीट किया, ‘पता नहीं कुछ लोगों को क्या समस्या है, न जानें क्यों वे शांति से नहीं रह सकते… मोहम्मद हसन खुले तौर पर ननकाना साहिब गुरुद्वारे को तबाह कर वहां मस्जिद बनाने की बात कर रहा है। इमरान खान कृपया जरूरी कदम उठाएं।’ हरभजन ने आगे लिखा, ‘ईश्वर एक है.. उसे विभाजित मत करो… और न ही एक-दूसरे के प्रति नफरत पैदा करो… चलो पहले इंसान बनो और एक-दूसरे का सम्मान करो। मोहम्मद हसन खुलेआम ननकाना साहिब गुरुद्वारे को नष्ट करने और उस जगह पर मस्जिद बनाने की धमकी दे रहा है। यह देखकर बहुत दुखी हूं।’  उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारा पर शुक्रवार को बड़ा हमला हुआ। भीड़ ने ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर पथराव किया, साथ ही ननकाना साहिब गुरुद्वारे का नाम बदलने और सिखों को वहां से भगाने के नारे भी लगाए। इस दौरान काफी संख्या में सिख श्रद्धालु ननकाना साहिब गुरुद्वारे में फंस गए और वहां से जल्द से जल्द निकालने की मांग की है। हमला करने वाली भीड़ की अगुवाई मोहम्मद हसन का भाई कर रहा था। मोहम्मद हसन ने ही सिख लड़की जगजीत कौर को अगवा किया था और उससे निकाह कर लिया था।

Posted in खेल दिल्ली

टी-20 सीरीज : भारत और श्रीलंका की टीमें रविवार को गुवाहाटी में होंगी आमने-सामने

नई दिल्ली । भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की सीरीज का पहला टी-20 मुकाबला गुवाहाटी में खेला जाएगा। दोनों टीमें रविवार (5 जनवरी) को बरसापारा स्टेडियम में आमने-सामने होंगी। इसके बाद दूसरा टी-20 इंदौर और तीसरा पुणे में खेला जाएगा। भारत अब तक श्रीलंका से कोई टी-20 सीरीज नहीं हारा। दोनों के बीच 6 टी-20 सीरीज हुई हैं। भारत को 5 में जीत मिली है, एक ड्रॉ रही है। इस मैच को लेकर एहतियातन खास सतर्कता बरती जा रही है। यहां के बरसापारा क्रिकेट स्टेडियम के अंदर क्रिकेट प्रशंसक पोस्टर, बैनर या प्लेकार्ड भी नहीं ले जा पाएंगे।   श्रीलंका के खिलाफ टी-20 सीरीज से भारत नए साल की शुरुआत कर रहा है, जो ऑस्ट्रेलिया में होने वाले आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारियों का हिस्सा है। भारत ने हाल ही में बांग्लादेश और वेस्टइंडीज को सीरीज में मात दी है और अब श्रीलंका के खिलाफ भी टीम इंडिया ऐसा ही प्रदर्शन जारी रखना चाहेगी। श्रीलंका के खिलाफ भारत का रिकॉर्ड काफी अच्छा रहा है। भारत ने श्रीलंका के खिलाफ अब तक 16 मैच खेले हैं, जिसमें से उसने 11 मैच जीते हैं और पांच मैच हारे हैं।  श्रीलंका के खिलाफ भारतीय टीम में रोहित शर्मा, भुवनेश्वर कुमार, दीपक चाहर और मोहम्मद शमी नहीं हैं। वहीं, दूसरी तरफ टीम में जसप्रीत बुमराह और शिखर धवन की वापसी हो गई है। कुछ खास खिलाड़ियों के टीम में नहीं होने पर कप्तान विराट कोहली के लिए प्लेइंग इलेवन का चुनाव काफी मुश्किल होगा।

भारत – श्रीलंका टी 20 सीरीज का कार्यक्रम
पहला टी20  – गुवाहाटी 5 जनवरी, शाम 7 बजे
दूसरा टी20   –  इंदौर 7 जनवरी, शाम 7 बजे
तीसरा टी20  –  पुणे 10 जनवरी, शाम 7 बजे

दोनों टीमें
भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, केएल राहुल, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडेय, संजू सैमसन, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), शिवम दुबे, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, रवींद्र जडेजा, शार्दुल ठाकुर, नवदीप सैनी, जसप्रीत बुमराह और वॉशिंगटन सुंदर।

श्रीलंका: लसिथ मलिंगा (कप्तान), धनंजय डि सिल्वा, वानिंधु हसरंगा, निरोशन डिक्वेला (विकेटकीपर), ओशदा फर्नांडो, अविष्का फर्नांडो, दानुष्का गुनातिलका, लारिरू कुमारा, एंजेलो मैथ्यूज, कुसल मेंडिस, कुसल परेरा, भानुका राजपक्षे, कुसन रजिता, लक्षन संदकन, दासुन सनाका, इसरू उडाना।